Gulzar Sahab Shayari In Hindi|Latest Gulzar Saheb Shayari

In this post we are going to share with you some best shayari of gulzar sahab. he is one of living legend of India .He is master of Shayari ,Gulzar Sahab wrote every segment of Shayari like Dard bhari Shayari of gulzar sahab,hindi shayari by gulazar sahab,Latest Shayari collection of gulzar Love Shayari, Romantic Shayari, Sad Shayari, Latest Two line shayari, Short urdu shayri.Read here some great online collection of Gulzar Sahab shayari.This stage make you available the ultimate self collected works of Gulzar Sahab Shayari collection .

gulzar shayari

Gulzar Sahab Shayari on Girlfriend/Boyfriend

वो दिल ही क्या जो तुझसे मिलने की दुआ न करे,
ए सनम…….
में तुझको भूल कर जिन्दा रह सकूं ऐसा रब्ब न करे.

इस दिल का कहा मनो एक काम कर दो
एक बे-नाम सी मोहब्बत मेरे नाम करदो
मेरी ज़ात पर फ़क़त इतना अहसान कर दो
किसी दिन सुबह को मिलो, और शाम कर दो..!!`

Shayari on Broken heart by Gulzar Shayari | sad shayari by gulzar sahed

मेरे दर्द को भी आह का हक़ हैं,
जैसे तेरे हुस्न को निगाह का हक़ है
मुझे भी एक दिल दिया है भगवान ने
मुझ नादान को भी एक गुनाह का हक़ हैं.

भले ही किसी गैर की जागीर थी वो,
पर मेरे ख्वाबों की भी तस्वीर थी वो,
मुझे मिलती तो कैसे मिलती,
किसी और के हिस्से की तक़दीर थी वो.

Latest Love Shayari,Romantic Shayari by Gulzar Sahab

अगर कभी थक जाओ तो हमसे कहना,
हम उठा लेंगे तुमको अपनी इन बाहों में,
आप एक बार प्यार करके तो देखो हमसे,
हम सारी खुशियां बिछा देंगे आपकी राहों में.

मेरे दिल में एक धड़कन तेरी हैं,
उस धड़कन की कसम तू ज़िन्दगी मेरी है,
मेरी तो हर सांस में एक सांस तेरी हैं,
जो कभी सांस जो रुक जाए तो मौत मेरी हैं.

Best urdu shayari , hindi Shayari by Gulzar Sahab

जादू हैं उसकी हर एक बात में,
याद बहुत आती है दिन और रात में,
कल जब देखा था मेने सपना रात में,
तब भी उसका ही हाथ था मेरे हाथ में

तमन्नाओ की महफ़िल तो हर कोई सजाता है ,
ए दोस्तों…..
लेकिन पूरी उसकी ही होती है जो तक़दीर लेकर आता है .

Two lines Gulzar Sahab Shayari

एक मिनट में जिंदगी नहीं बदलती,
पर एक मिनट सोच कर लिया हुआ फैसला,
पूरी जिंदगी बदल देता है.

ऐ इश्क़.. दिल की बात कहूँ तो बुरा तो नहीं मानोगे,
बड़ी रहत के दिन थे तेरी पहचान से पहले…..

Related Shayari:

3 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. more information

The cookie settings on this website are set to "allow cookies" to give you the best browsing experience possible. If you continue to use this website without changing your cookie settings or you click "Accept" below then you are consenting to this.

Close